भारत का नया संसद भवन ( India New Parliament House)

भारत का नया संसद भवन ( India New Parliament House)
भारत का नया संसद भवन ( India New Parliament House)

प्रिय पाठकों, Help2Youth के माध्यम से आपको हर महीने Current Affair देखने को मिलेगी लेकिन आज हम लेकर आए है भारत का नया संसद भवन ( India New Parliament House)जिससे आप आने वाले HSSC कीअनेक प्रकार की प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी आसानी से कर सकते है और यदि आपके पास भारत का नया संसद भवन ( India New Parliament House) है तो कॉमेंट बॉक्स मे हमारे साथ सांझा कर सकते है

भारत का नया संसद भवन ( India New Parliament House)

भारत के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 मई 2023 को नई दिल्ली मे स्थित भारत का नया संसद भवन का उद्घाटन किया है। नए संसद भवन (New Parliament Building) सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट (Central Vista Project) का एक हिस्सा है, जिसका उद्देश्य औपनिवेशिक युग की इमारतों की जगह नई इमारतों का निर्माण करना है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत 10 दिसंबर 2020 को नए संसद भवन  की आधारशिला रखी थी। नया संसंद भवन 64500 वर्ग किलोमीटर मे फैला हुआ है, नया संसंद भवन 4 मंजिल इमारतों से बना हुआ है।

WhatsApp Image 2023 05 19 at 4.23.34 PM 696x392 1

लेकिन नया संसंद भवन का निर्माण 2019 मे शुरू किया गया और अक्टूबर 2023 मे इसके लिए एक भूमि का अधिग्रहण किया गया और 10 दिसंबर 2020 की इसकी आधारशिला रखी गई  

भारत के नए संसद भवन में लोकसभा के स्पीकर के पास एक सेंगोल लगाया गया है  जो राजदंड सिर्फ सत्ता का प्रतीक नहीं, बल्कि राजा के सामने हमेशा न्यायशील बने रहने और जनता के प्रति समर्पित रहने का भी प्रतीक हो, इस सांसद भवन मे कुल 1272 सीटे है जिसमे लोकसभा कक्ष मे 888 सीटे है एर राजसभा मे 384 सीटे है।

भारत का पुराना संसद भवन

पुराना संसंद भवन 1927 मे तैयार किया गया था जो 93 साल पुराना  है जिसमे अपर्याप्त मात्रा मे इंफ्रास्ट्रक्चर था, पुराने संसद भवन को ब्रिटिश वास्तुकार सर एडविन लुटियंस और हर्बर्ट बेकर ने काउसिंल हाउस के रूप में डिजाइन किया था. इसे बनाने में छह साल(1921-1927) लगे थे

parliament old

  • व्यास: 566 फुट 
  • क्षेत्रफल: 6 एकड़
  • प्रथम स्थप पर स्तम्भ: 144 
  • स्तम्भ की ऊंचाई: 27 फुट 
  • कुल भवन द्वार: 12 
  • बनने मे समय : 6 साल 

 

भारत का नया संसद भवन के मुख्य बिन्दु 

नया संसद भवन बिन्दु 
उद्घाटन 28 मई 2023 
मुख्य अतिथि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 
लोकसभा सीट 888
राज्यसभा सीट 384
कुल फ्लोर 
आकार त्रिकोणीय 
कुल एरिया 20886 M2
बनने मे समय लगभग 3 साल
आर्किटेक्टए आर बिमल पटेल 

भारत का नया संसद भवन के मुख्य तीन मेन गेट हैं;-

  • ज्ञान द्वार
  • शक्ति द्वार
  • कर्मा द्वार

वीवीआईपी, वीआईपी  सांसदों और विजिटर्स की एंट्री अलग-अलग गेट से की जाएगी 

भारत का नया संसद भवन की मुख्य विशेषताए 

नया संसद भवन का आकार त्रिकोणीय है क्योंकि यह इष्टम स्थान उपयोग सुनिक्षित करता है । 

नया संसद भवन 4 इमारतों से बना हुआ है 

इसके सदस्यों के लिए एक पुस्तकालय, लाउंज, कई समिति कक्ष, भोजन कक्ष व पार्किंग स्थान है। 

इसके पास एक सुन्दर सा सविधान हॉल बनाया गया है, जिसमे सविधान से संबंधित सारी जानकारी उपलब्ध हैऔर सविधान की मूल प्रति को भी रखा गया है।

संयुक्त बैठक के दौरान इसमे 1272 सदस्य बैठ सकते है 

संसद मे लोकसभा भवन को राष्ट्रीय पक्षी मयूर की थीम पर डिजाइन किया गया है। 

संसद मे राजसभा भवन को राष्ट्रीय फूल कमल की थीम पर डिजाइन किया गया है। 

नया संसद भवन ऑडियो सिस्टम से लैस होगा। 

नए संसद भवन मे लगभग 120 ऑफिस है, इसमे महिलाओ के अलग से कोमन रूम व लाउंज भी शामिल है। 

नए संसद भवन दिव्यांगों की परेशानियों को देखकर बनाया गया है ताकि उन्हे किसी प्रकार की कोई दिक्कत ना हो 

इसमे एक बहुत बड़ा विश्व स्तरीय पुस्तकालय बनाया गया है जिसमे सदस्य अपनी पसंद की जानकारियाँ हासिल कर सके। 

नए संसद भवन की इमारत भूकंप रहित से डिजाइन की गई है। 

 सेन्गोल शब्द तमिल शब्द सेम्मई से लिया गया है। 

भारत का नया संसद भवन की निर्माण व डिजाइन

नए संसद भवन का ठेका सितंबर 2020 मे टाटा प्रोजेक्ट कंपनी को दिया गया थे, जिसमे लगभग 861 करोड़ रुपए की बोली लगाकर हासिल किया था। यह सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का हिस्सा है जो गुजरात की प्रसिद्ध कंपनी आर्किटेक्चर फ़र्म एचसीपी डिज़ाइन्स ने तैयार किया है। नए संसद भवन का वास्तुकार ए आर बिमल पटेल है, जो सेंट्रल विस्टा डेवलपमेंट प्रोजेक्ट के आर्किटेक्ट हैं।

इससे सुन्दर बनाने के लिए अलग-अलग हिस्सों से मंगाई गई मूर्तियां और आर्ट वर्क बनाए गए हैं।

भारत मे में पूजे जाने वाले जानवरों की झलकियां भी इसमें दिखाई देगी, जिनमें गरुड़, गज, अश्व और मगर शामिल हैं।

नए संसद भवन में खास लकड़ियों का भी इस्तेमाल किया गया है।  सागौन की लकड़ी नागपुर से राजस्थान के सरमथुरा का सैंडस्टोन (लाल और सफेद) लिया गया है। यूपी के मिर्जापुर के कालीन मंगाई गई है। अगरतला से बांस की लकड़ियों को फर्श पर इस्तेमाल किया गया है।

नए संसद भवन की मिट्टी हरियाणा के चरखी दादरी जिले से मँगवाई गई है। 

भारत का नया संसद भवन ( India New Parliament House)

5 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments